छपी-अनछपीः विवादों के घेरे में नये मंत्री, बिहार में सुखाड़ का खतरा

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। सरकार से अलग कर दिये जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने एक मजबूत विपक्ष का रोल निभाना शुरू कर दिया है। कानून मंत्री राजद के विधान पार्षद कार्तिकेय कुमार के खिलाफ चल रहे अपहरण के मामले को इसने जोरदार तरीके से उठाया। यह विवाद अधिकतर अखबारों में सबसे बड़ी खबर है। कार्तिकेय कुमार उर्फ कार्तिकेय सिंह उर्फ मास्टर साहेब को सजायाफ्ता पूर्व राजद विधायक अनंत सिंह गुट का खास आदमी माना जाता है।
आज राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मुलाकात की खबर और तस्वीर भी प्रमुखता से छपी है। ऐसी गर्मजोशी से मुलाकात दोनों के बीच पिछली बार 2015 में हुई थी। इन सात सालों में लालू प्रसाद की सेहत काफी बिगड़ी है।
हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी हेडलाइन हैः कानून मंत्री कार्तिक पर सियासी घमासान। जाहिर है मंत्री ने सभी आरोपों को निराधार बताया है। 16 अगस्त को उन्हें कोर्ट में हाजिर होना था लेकिन उस दिन उन्होंने मंत्री पद की शपथ ली। मुख्यमंत्री ने किसी वारंट होने के बारे में अनभिज्ञता जाहिर की है। लालू प्रसाद ने सुशील मोदी के आरोप को गलत बताया है। भाकपा-माले ने इस मामले में पुनर्विचार की बात कही है।
जागरण की सुर्खी हैः वारंट व मुकदमे पर विवादों में घिरे विधि मंत्री कार्तिकेय। भास्कर की सबसे बड़ी खबर हैः फरार नहीं, जमानत पर है कानून मंत्री। प्रभात खबर ने भी इसे प्रमुखता से छापा हैः आठ साल पुराने मामले में कानूनी विवाद में घिरे कानून मंत्री। इस खबर के साथ यह विश्लेषण भी छपा है कि एनडीए से ज्यादा दागी चेहरे नयी सरकार में हैं।
प्रभात खबर की लीड हैः 20 साल में 11वीं बार सूखे की आहट। इस खबर में बताया गया है कि बिहार में अब तक 41 फीसद कम बारिश हुई है। धान की रोपनी तो 82 फीसद हो गयी है लेकिन असल सवाल है इन पौधों को बारिश की कमी में कैसे बचाया जाएगा।
भाजपा संसदीय बोर्ड से नितिन गडकरी व शिवराज सिंह चैहान और चुनाव समिति से शाहनवाज हुसैन के बाहर होने की खबर भी प्रमुखता से छपी है। इसके साथ यह विश्लेषण भी है कि भाजपा में उन चेहरों को ही प्रमुख स्थानों पर रखा जा रहा है जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की हां में हां मिलाने वाले हों। खासकर गडकरी के बारे मंे कहा जा रहा है कि उनके बिंदास बोल के कारण भी उन्हें साइडलाइन किया गया है।
भाजपा के सीनियर लीडर और पूर्व मंत्री शाहनवाज हुसैन के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज करने का आदेश दिल्ली हाईकोर्ट ने दिया है। यह खबर भी प्रमुखता से छपी है।
तत्कालीन डीएम कृष्णैया हत्यकांड में उम्रकैद काट रहे पूूर्व सांसद और बिहार पीपुल्स पार्टी के नेता आनंद मोहन पेशी के लिए जेल से निकलने के बाद घर पहुंचने के मामले में सहरसा के जेल उपाधीक्षक को सस्पेंड कर दिया गया है। आरोप है कि पेशी के लिए निकले आनंद मोहन 47 घंटे जेल से बाहर थे और इस दौरान कोर्ट में सिर्फ 3 घंटे बिताये।
रोहिंग्या शरणार्थी को सम्माजनक तरीके से बसाने के मामले में मंत्री हरदीप पुरी के ऐलान, इसके विरोध में विश्व हिन्दू परिषद के बयान और गृह मंत्रालय की सफाई की खबर भी प्रमुखता से छपी है। गृह मंत्रालय ने सफाई में कहा है कि रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस करने की दिशा में कार्रवाई की जा रही है।
अनछपीः भारत के विश्वगुरु बनने की बात बहुत अच्छी लगती है लेकिन जब विश्व मानवता की बात आती है तो ओछी राजनीति मानवता को शर्मसार कर देती है। यह बात किससे छिपी है कि रोहिंग्या म्यामांर के क्रूर शासकों के अत्याचार के शिकार हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ उन्हें बसाने और उनकी देखभाल की कोशिश कर रहा है। बड़ी संख्या में बांग्लादेश में वे शरण लिये हुए हैं। अब मंत्री हरदीप पुरी ने रोहिंग्या शरणार्थियों को किसी जगह तात्कालिक तौर पर एक ठिकाना देने की बात कही थी। इसके बाद विश्व हिन्दू परिषद आक्रामक हो गया और गृह मंत्रलाय ने बयान जारी किया कि ऐसी कोई योजना नहीं है। हरदीप पुरी की नजरों में जो लोग शरणार्थी थे, गृह मंत्रालय ने उन्हें फौरन अवैध विदेशी बता दिया। एक तरफ दुनिया में भारत का मानवीय चेहरा पेश करने की कोशिशें और दावे हैं, और दूसरी तरफ विश्व हिन्दू परिषद का एजेंडा है। फिलहाल, सरकार ने दूसरा विकल्प चुना है।

 446 total views

Share Now

Leave a Reply