मिनटों में जानिये 10 विधान सभा सीट की हार-जीत का ब्योरा

बिहार लोक संवाद के लिए समी अहमद की विशेष प्रस्तुति

पटना, 13 नवंबर: बिहार विधान सभा 2020 चुनाव के नतीजे सामाने आ गए हैं। हम यहां संक्षेप में आज 10 सीट का ब्योरा प्रस्तुत कर रहे हैं।

1. अगियांव विधानसभा क्षेत्र से सीपीआईएमएल जीती

अगियांव विधानसभा क्षेत्र से सीपीआईएमएल यानी भाकपा माले के मनोज मंजिल 86327 वोटों के साथ विजय प्राप्त किया उन्होंने कुल 1400616 वोट का 61.39% वोट हासिल किए।
2015 में यहां से जनता दल यूनाइटेड के प्रभुनाथ प्रसाद ने जीत हासिल की थी उनके जीत का अंतर था 14704।
2020 में दूसरे स्थान पर रहे जनता दल यूनाइटेड के प्रभुनाथ प्रसाद उन्हें 37777 वोट मिले जो कुल वोटों का 26.87% है।
यहां नोटा छोड़कर कुल 10 उम्मीदवार थे नोटा को 3787 वोट मिले।
लोक जनशक्ति पार्टी के राजेश्वर पासवान ने कुल 4972 यानी 3.54% वोट हासिल किए

2. आलमनगर सीट से जनता दल यूनाइटेड जीता

आलमनगर सीट का नतीजा आलमनगर सीट से जनता दल यूनाइटेड के नरेंद्र नारायण यादव ने 102517 वोट लेकर जीत हासिल अपनी सीट बरक़रार रखी। यहां कुल 212829 वोट पड़े जिसमें विजय उम्मीदवार को 48.17% वोट मिले।
2015 में आलमनगर सीट पर नरेंद्र नारायण यादव ही विजय हुए थे। उस समय उनकी जीत का अंतर था 43876।
इस बार दूसरे स्थान पर राष्ट्रीय जनता दल के नवीन कुमार रहे, जिन्हें 73837 वोट प्राप्त हुए। यह कुल वोट का 34.69% है।
यहां नोटा छोड़कर कुल 10 उम्मीदवार थे नोटा को 4595 वोट मिले।
इस वर्ष यहां से तीसरे स्थान पर लोक जनशक्ति पार्टी की सुनीला देवी रहीं जिन्हें 9287 वोट मिले।
दूसरी ओर पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के सर्वेश्वर प्रसाद सिंह ने 8466 मत लाये।

3. अलौली विधान सभा क्षेत्र से राष्ट्रीय जनता दल  जीता

अलौली विधान सभा क्षेत्र से राष्ट्रीय जनता दल के रामवृक्ष ने जीत हासिल की। उन्हें चार 47183 मत मिले जो कुल 144350 वोटों का 32.69% है।
पिछली बार यहां से राष्ट्रीय जनता दल के चंदन कुमार विजयी हुए थे जिनकी जीत का अंतर 24470 था।
इस बार दूसरे स्थान पर जनता दल यूनाइटेड की साधना देवी रही जिन्हें 44410 मत मिले जो कुल मतों का 30.77% है।
यहां नोटा छोड़कर कुल 14 उम्मीदवार खड़े थे। नोटा को 2767 लोगों ने पसंद किया।
यहां लोक जनशक्ति पार्टी के रामचंद्र सदा 26386 मत लेकर तीसरे स्थान पर रहे। पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के बोधन सदा को 5614 वोट मिले।

4. अलीनगर सीट से विकासशील इंसान पार्टी जीती

अलीनगर सीट से विकासशील इंसान पार्टी के मिश्री लाल यादव ने 61082 मत लाकर जीत हासिल की। यह कुल वोट 38.62 प्रतिशत है।
यहां से पिछली बार राष्ट्रीय जनता दल के अब्दुल बारी सिद्दीकी ने जीत हासिल की थी। उनकी जीत का अंतर था 13407।
2020 में दूसरे स्थान पर रहे राष्ट्रीय जनता दल के विनोद मिश्रा जिन्हें ने पांच 57981 वोट मिले। यह कुल वोटों का 36.66% है।
यहां से नोटा छोड़कर कुल 13 उम्मीदवार थे। यहां 15 लाख 8159 वोट पड़े। नोटा को 2941 वोट मिले। तीसरे स्थान पर रहे पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के संजय कुमार सिंह ने 9737 वोट लाए। यह कुल वोट का 6.16 प्रतिशत है।
लोक जनशक्ति पार्टी के राज कुमार झा को 8850 वोट मिले।

5. अमरपुर सीट से जनता दल यूनाइटेड जीता

अमरपुर सीट से जनता दल यूनाइटेड के जयंत राज 54308 मत लाकर विजयी रहे। यह कुल वोटों का 33.13% है।
2015 में जनता दल यूनाइटेड के जनार्दन मांझी ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के जितेंद्र सिंह को 11773 वोटों से हराया था। 2020 में हार जीत का अंतर काफी कम हुआ और यह 3114 रहा।
2020 में भी यहां दूसरे स्थान पर रहे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के जितेंद्र कुमार को 51194 वोट मिले जो कुल वोटों का 31.23% है।
लोक जनशक्ति पार्टी के मृणाल शेखर ने 40308 वोट लाए और तीसरे स्थान पर रहे। उनके वोटों का प्रतिशत 24.59 है। यहां नोटा को छोड़कर कुल 12 उम्मीदवार थे। यहां 163933 वोट पड़े इन में नोटा को 3534 मत मिले।

6. अमनौर सीट से भारतीय जनता पार्टी जीती

अमनौर सीट से भारतीय जनता पार्टी के कृष्ण कुमार मंटू कुल 63316 वोट लाकर विजेता रहे। यह कुल मतों का 42.29% है।
2015 में यहां से भारतीय जनता पार्टी के शत्रुघ्न तिवारी विजय हुए थे उनकी जीत का अंतर था 5251। इस बार जीत का अंतर कम होकर 3681 रहा।
2020 में दूसरे स्थान पर राष्ट्रीय जनता दल के सुनील कुमार रहे जिन्हें कुल 59635 प्रतिशत वोट मिले। यह कुल वोटों का 39.83% है।
यहां से तीसरे स्थान पर रहे शत्रुघ्न तिवारी निर्दलीय उम्मीदवार थे। उन्हें कुल 7493 मत प्राप्त हुए जो कुल वोटों का 5% है। यहां नोटा छोड़कर कुल 14 उम्मीदवार थे और सभी को 149711 वोट मिले। नोटा को 3667 वोट मिले।

7. पूर्णिया जिले की अमौर सीट से ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन जीती

Photo credit: The Indian Express

पूर्णिया जिले की अमौर सीट पर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अख्तरुल इमान ने 94459 वोट लाकर जीत हासिल की। यह कुल मतों का 51.17% है।
2015 में अमौर से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अब्दुल जलील मस्तान जीते थे। उस समय उनकी जीत का अंतर था क्या वह 51997।
2020 में जीत का अंतर रहा 52515।
2020 में जनता दल (यूनाइटेड) के सबा जफर दूसरे स्थान पर रहे। उन्हें कुल 41944 वोट मिले जो कुल मतों का 22.72% है।
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अब्दुल जलील मस्तान 31863 वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे जो कुल मतों का 17.26% है।
यहां नोटा छोड़कर 11 उम्मीदवार थे और कुल 184606 वोट पड़े यहां नोटा को 4958 वोट मिले।

8. अररिया सीट कांग्रेस ने जीती
अररिया सीट भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के आबिद उर रहमान ने 103054 वोट लाकर जीते यह कुल वोटों का 54.84% है।
2015 में यहां से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अब्दुर्रहमान ही जीते थे। उस समय जीत का अंतर था।
2020 में जीत का अंतर है 47936।

2020 में दूसरे स्थान पर जनता दल यूनाइटेड की शगुफ्ता अजीम रहीं। उन्हें कुल 55118 वोट मिले। यह कुल मतों का 29.33% है।
यहां तीसरे स्थान पर रहे ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के मोहम्मद राशिद अनवर को 8924 वोट मिले जो कुल वोट का 4.75% है। यहां से लोक जनशक्ति पार्टी के चंद्रशेखर सिंह बब्बन ने 8203 मत लाए जो कुल मतों का 4.37% है।
यहां से नोटा छोड़कर कुल 12 उम्मीदवार थे और यहां वोट पड़े 187908।

9. आरा सीट से भारतीय जनता पार्टी जीती
आरा सीट से भारतीय जनता पार्टी के अमरेंद्र प्रताप सिंह ने 71781 वोट लाकर जीत हासिल की उनके वोटों का प्रतिशत 45.05 रहा।
2015 में यहां से राष्ट्रीय जनता दल के नवाज आलम जीते थे उनकी जीत का अंतर था 666।
2020 में जीत का अंतर है 3002।
2020 में दूसरे स्थान पर रहे सीपीआईएमएल यानी भाकपा माले के क्यामुद्दीन अंसारी को 68779 मत मिले जो कुल मतों का 45.17% है।
यहां से निर्दलीय हकीम प्रसाद 4360 मत लाकर तीसरे स्थान पर रहे। यह कुल मतों का 2.74% है। यहां नोटा छोड़कर कुल 15 उम्मीदवार थे नोटा को 2811 मत मिले।

10. अरवल सीट भाकपा माले ने जीती
अरवल विधानसभा क्षेत्र से भाकपा माले के महानंद सिंह ने 68286 वोट लाकर जीत हासिल की। यह कुल वोट का 47.18% है।
जहां दूसरे स्थान पर रहे भारतीय जनता पार्टी के दीपक कुमार शर्मा को 48336 वोट मिले जो कुल वोटों का 33.4% है।
2015 में राष्ट्रीय जनता दल के रविंद्र सिंह विजय हुए थे।
उनकी जीत का अंतर था 17810।
2020 में जीत का अंतर है 19950।
2020 में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के सुभाष चंद्र यादव 7941 वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे।
जहां नोटा छोड़कर कुल 23 उम्मीदवार थे। कुल वोट पड़े 144740। यहां नोटा को 2372 मत मिले।

(जारी)

 311 total views

Share Now

Leave a Reply