छपी-अनछपीः पटना में दिनदहाड़े आठ किलो सोना लूटा, तुर्की अब तुर्कीए, भाजपा का जनसंख्या नियंत्रण राग

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। पटना के अनीसाबाद की पुलिस काॅलोनी में गोल्ड लोन कंपनी के आॅफिस से गुरुवार को आठ किलो सोना लूट लिया गया जिसकी कीमत चार करोड़ रुपये बतायी गयी है। यह खबर तीन हिन्दी अखबारों हिन्दुस्तान, जागरण और भास्कर की लीड है। इसके अलावा इसी दिन एक और जेवर दुकान में लूटपाट मचायी गयी।
याद रहे कि एक दिन पहले यानी गुरुअवार को वैशाली में एक जेवर दुकान से करीब दो करोड़ की लूट हुई थी।
प्रभात खबर में पूर्व मंत्री राजो सिंह की हत्या के पांचों मुल्जिमों के बरी होने की खबर सबसे बड़ी खबर है। अखबार ने उनके पोते के ही गवाही से मुकरने की बात बतायी है।
जाति आधारित जनगणना पर काफी सकुचाते हुए राजी होने वाली भाजपा के नेता बिहार में आये दिन नया राग छेड़ रहे हैं। पहले उन्होंने घुसपैठियों का आरोप लगाया और अब वे जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून का राग आलापने लगे हैं। अखबारों के अनुसार राज्यसभा सांसद और आरएसएस के विचारक कहे जाने वाले राकेश सिन्हा और बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार बबलू ने यह मांग की है। इस मांग को जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने ठुकरा दिया है।
कश्मीर में टारगेटेड मर्डर की बढ़ती घटनाओं पर शुक्रवार को गृहमंत्री अमित शाह की बैठक में सख्ती के संकेत की बात हिन्दुस्तान में पहले पेज पर छपी है। इधर, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कश्मीर फाइल्स फिल्म की आलोचना करते हुए कहा है कि इसके कारण भी वहां का माहौल खराब हुआ है। उन्होंने कश्मीर में शांति के लिए उसे बिहारियों को सौंपने की बात कही है।
भारत में धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी रिपोर्ट को नकारते हुए इसे वहां वोट पाॅलिटिक्स का नतीजा कहा है। यह खबर टाइम्स आॅफ इडिया में पहले पेज पर जबकि हिन्दी अखबारों में अन्दर छपी है।
हिन्दुस्तान ने तुर्की का नाम वापस तुर्कीए करने को अपने संपादकीय का विषय बनाया है और अन्य देशों के इस तरह अपने मूल नाम पर लौटने की जानकारी दी है।
सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या में जिस गवाह को बादामी देवी को 24 मई को सीबीआई ने मृत बता दिया था, वह शुक्रवार को कोर्ट में हाजिर हुई, यह बताने के लिए हुजूर मैं जिंदा हूं। सीबीआई ने उसकी मौत की सत्यापन रिपोर्ट भी सौंप दी थी।
अनछपीः बिहार के अखबारों में अभी यह बात नहीं छप रही कि भाजपा जातीय जनगणना के लिए तैयार तो हो गयी है मगर इस कारण उसे अपने हिन्दुत्व वाले एजेंडे को नुकसान नजर आ रहा है और वह इसकी भरपाई के लिए ऐसे मुद्दे छेड़ रही है जिससे माहौल हिन्दू-मुसलमान की बहस वाला हो जाए। इसीलिए वह कभी बांग्लादेशी घुसपैठिए और कभी जनसंख्या का राग आलाप रही है।

 348 total views

Share Now

Leave a Reply